Saturday, June 14, 2014

' पिता '

   Happy Father's Day

             ' पिता '

जैसे किसी बगिया की फुलवारी का 
बाग़बान रखता है ध्यान ,
वैसे ही पिता के साये में 
बच्चों के होठों पर खिलती है मुस्कान !
पिता का साया है वो आसमान ,
जिससे मिलता है उन्हें खुशियों का जहान ,
बगिया के हर एक फूल-सा ,
महकता है उनका बचपन नादान !
बिना बाग़बान के जैसे सूना है ये चमन ,
बिन हवा के नीरव है ये गगन ,
वैसे ही बिना पिता के साये के ,
खामोश-सहमा है ये बचपन !

                    - सोनल पंवार

2 comments:

  1. अपनी कविताओं को आनलाइन प्रकाशित करने का सबसे सरल और बेहतरीन मौका - सावन (http://saavan.in/register/)| आज ही रजिस्टर करें और अपनी कविताओं को लाखों कवि प्रेमियों तक पहुंचायें|
    सावन भारतीय काव्य परंपरा को आगे बढाने के लिए कार्यरत है, इसमें अपना सहयोग दें|
    कृपया इस संदेश को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाये|

    ReplyDelete
  2. OnlineGatha One Stop Publishing platform in India, Publish online books, ISBN for self publisher, print on demand, online book selling, send abstract today: http://goo.gl/4ELv7C

    ReplyDelete